Hamara Today
Hindi & Punjabi Newspaper

क्या बिल नहीं चुकाने पर अस्पतालों के पास है मरीज को रोकने का अधिकार? जानिए सबकुछ

0

कोरोना महामारी के इस दौर में जहां कोरोना संक्रमित मरीज जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे हैं, वहीं कुछ अस्पतालों की मनमानी ने मानवता को शर्मसार कर दिया है।

हाल ही में मध्य प्रदेश में शाजापुर सिटी अस्पताल प्रबंधन ने उपचार का बिल नहीं चुकाने पर एक 60 वर्षीय मरीज को बेड पर रस्सियों से बांध दिया था।

ऐसे में सवाल उठता है कि क्या अस्पतालों के पास ऐसा अमानवीय कृत्य करने का अधिकार है? आइए जानते हैं सबकुछ।

भारत शर्मा
देश
क्या बिल नहीं चुकाने पर अस्पतालों के पास है मरीज को रोकने का अधिकार? जानिए सबकुछ
कोरोना महामारी के इस दौर में जहां कोरोना संक्रमित मरीज जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे हैं, वहीं कुछ अस्पतालों की मनमानी ने मानवता को शर्मसार कर दिया है।

हाल ही में मध्य प्रदेश में शाजापुर सिटी अस्पताल प्रबंधन ने उपचार का बिल नहीं चुकाने पर एक 60 वर्षीय मरीज को बेड पर रस्सियों से बांध दिया था।

ऐसे में सवाल उठता है कि क्या अस्पतालों के पास ऐसा अमानवीय कृत्य करने का अधिकार है? आइए जानते हैं सबकुछ।

इस खबर में
मरीज के परिजनों ने नहीं चुकाया था 11,200 का बिल
मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश
मरीजों के अधिकारियों के लिए तैयार किया गया था चार्टर
महाराष्ट्र सरकार ने लागू किया था नियम
कानून नहीं बनने के कारण अस्पताल कर रहे हैं मनमानी
वर्तमान में मरीजों को न्यायालयों से ही मिल रही राहत
बॉम्बे हाई कोर्ट ने कही सख्त नियम बनाने की बात
दिल्ली हाईकोर्ट ने भी मरीज के पक्ष में सुनाया था फैसला
घटना
मरीज के परिजनों ने नहीं चुकाया था 11,200 का बिल
TOI की रिपोर्ट के अुनसार लक्ष्मीनारायण डांगी (60) का सिटी अस्पताल में उपचार चल रहा था। उपचार का 11,200 रुपये का बिल बना था।

बिल नहीं चुकाने पर अस्पताल प्रशासन ने डांगी को रस्सियों के सहारे बेड पर बांध दिया। मरीज की बेटी शीला ने आरोप लगाया कि अस्पताल प्रशासन ने बिल नहीं चुकाने पर यह कदम उठाया था।

घटना का वीडियो वायरल होने पर स्थानीय प्रशासन ने अस्पताल का लाइसेंस निलंबित कर संचालक के खिलाफ मामला दर्ज कराया था।

आदेश
मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश
घटना के संबंध में अस्पताल प्रशासन का कहना था कि मरीज ऐंठन से पीड़ित था और उपचार के लिए उसे बांधा गया था। वीडियो वायरल होने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जांच के आदेश दे दिए।

इस मामले में तो मुख्यमंत्री के आदेश के बाद सख्ती से जांच शुरु हो गई, लेकिन सवाल यह है कि देश में ऐसे बहुत मामले होते हैं, लेकिन सरकार की स्पष्ट नीति नहीं होने के कारण दोषियों पर कार्रवाई नहीं होती है।

परेशानी
कानून नहीं बनने के कारण अस्पताल कर रहे हैं मनमानी
स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गया वह चार्टर आज भी ड्राफ्ट ही बनकर पड़ा हुआ है। यही कारण है कि अस्पताल प्रशासन ने मरीजों के साथ मनमानी कर रहे हैं।

जब तक इस चार्टर की पालना के लिए प्रतिबंधों के साथ आवश्यक कानून नहीं बनाया जाता, तब तक निजी अस्पतालों में गरीब तबके के लोगों के साथ इस तरह की ज्यादतियां होती रहेगी।

ऐसे में सरकार को इस पर सख्त कानून बनाने की जरूरत है।

राहत
वर्तमान में मरीजों को न्यायालयों से ही मिल रही राहत
मरीजों के अधिकार के लिए आवश्यक यह कानून लागू नहीं होने के कारण वर्तमान में मरीजों को न्यायालयों में शरण में जाना पड़ रहा है ।

साल 2018 में बॉम्बे हाई कोर्ट ने एक मरीज के पक्ष में फैसला दिया था कि बिल नहीं चुकाने के नाम पर अस्पताल मरीज या शव को नहीं रोक सकते। अस्पतालों द्वारा किया गया यह कार्य व्यक्तिगत स्वतंत्रता का हनन है। अस्पताल का यह कदम पूरी तरह से अवैध है।

जानकारी
दिल्ली हाईकोर्ट ने भी मरीज के पक्ष में सुनाया था फैसला
दिल्ली हाई कोर्ट ने भी गत वर्ष बिल नहीं चुकाने पर अस्पताल द्वारा मरीज को बंधक बनाने के मामले में मरीज को छोड़ने का आदेश दिया था। कोर्ट ने कहा था कि बिल नहीं चुकाने के कारण मरीज को बंधक नहीं बनाया जा सकता।

Leave A Reply

Your email address will not be published.