Hamara Today
Hindi & Punjabi Newspaper

फिर से होगी नोटबंदी, मार्च से बंद हो जाएंगे 100, 10 और 5 रुपए के पुराने नोट, जानिए इसकी वजह

0

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया अब 100, 10 और 5 रुपए के पुराने नोट को बंद करने की तैयारी कर रहा है. मार्च से ये नोट बंद हो जाएंगे, जानिए इसकी वजह

Reserve Bank Of India: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) 100, 10 और 5 रुपए के पुरानी सीरिज के नोट को बंद करने की योजना बना रहा है. RBI के असिस्टेंट जनरल मैनेजर (AGM) बी. महेश ने बताया है कि मेंगलुरु में डिस्ट्रिक्ट लेवल सिक्युरिटी कमेटी और डिस्ट्रिक्ट लेवल करेंसी मैनेजमेंट कमेटी की बैठक में AGM ने कहा कि RBI मार्च-अप्रैल से धीरे-धीरे इन नोटों को सर्कुलेशन से हटाने की योजना बना रहा है. मार्च से 100, 10 और 5 रुपए के पुरानी सीरिज के नोट बंद हो जाएंगे. अगर सब कुछ ठीक रहा तो मार्च (March) और अप्रैल (April) में इसका ऐलान किया जा सकता है.

RBI के असिस्टेंट जनरल मैनेजर (AGM) बी. महेश ने कहा कि 15 साल बाद भी कारोबारी और आम लोग 10 रुपए के सिक्के को स्वीकार नहीं कर रहे हैं, जिसकी वजह से 10 रुपए के ये सिक्के बैंकों और RBI के लिए समस्या बन गए हैं. बता दें कि 2019 में RBI ने लैवेंडर (हल्का बैंगनी) रंग का 100 रुपए का नया नोट जारी किया था. इस नोट के पीछे ‘रानी की वाव’ का चित्र है. यह एक बावड़ी है जो गुजरात के पाटन में सरस्वती नदी के किनारे स्थित है. नए नोट को जारी करते समय RBI ने कहा था कि सभी प्रकार के 100 रुपए के नोट प्रचलन में रहेंगे.

समय-समय पर नकली नोटों (Fake Note) के खतरे को टालने के लिए रिजर्व बैंक (Reserve Bank) पुरानी सीरीज के नोटों को बंद कर देता है. अधिकृत ऐलान के बाद बंद किए गए सभी पुराने नोटों (Old Note) को बैंक में जमा कराना होता है. जमा कराए गए कुल नोटों की कीमत बैंक खाते में जमा कर देती है या नया नोट दे देती है.

नोटबंदी के बाद से अब तक RBI अलग-अलग वैल्यू वाले 7 बैंक नोट जारी कर चुका है। इसमें 2000, 500, 200, 100, 50, 20 और 10 रुपए की वैल्यू वाले बैंक नोट शामिल हैं। ये सभी महात्मा गांधी सीरिज के बैंक नोट हैं। सभी बैंक नोट के पीछे ऐतिहासिक स्थानों की तस्वीरों को स्थान दिया गया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More