Hamara Today
Hindi & Punjabi Newspaper

यूपी में AAP सांसद पर राजद्रोह का केस, Sanjay Singh बोले- हम देशद्रोही हैं तो जेल में डाल दिया जाए

0

AAP Sanjay Singh के खिलाफ एक सर्वेक्षण कराए जाने के मामले में आईपीसी की विभिन्‍न धाराओं पर लखनऊ में केस दर्ज किया गया है

नई दिल्‍ली/ लखनऊ: आम आदमी पार्टी के राज्य सभा सदस्य और पार्टी की उत्तर प्रदेश इकाई के प्रभारी AAP Sanjay Singh के खिलाफ लखनऊ पुलिस ने हजरतगंज पुलिस थाने में दर्ज मामले में राजद्रोह की धारा जोड़ी है. वहीं, राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने शुक्रवार को उच्च सदन में कहा कि उन पर देशद्रोह का मुकदमा दायर कर दिया गया है. सिंह ने उच्च सदन में कहा, ”…हो सकता है कि चार दिन बाद मैं जेल में दिखूं. देशद्रोह का मुकदमा दायर कर दिया गया है

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सिंह के खिलाफ दो सितंबर को एक सर्वेक्षण कराए जाने के मामले में आईपीसी की धारा 501 ए तथा 120 बी के अलावा आईटी अधिनियम के तहत मामला दर्ज कराया गया था.

राज्‍यसभा में आप सांसद सिंह ने कहा, ”क्या इस सदन में बैठने वाला सदस्य देशद्रोही है, मैं इस सरकार से पूछना चाहता हूं?” उन्होंने कहा, ” अगर हम देशद्रोही हैं तो जेल में डाल दिया जाए.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि सिंह को लखनऊ पुलिस ने गुरुवार को एक नोटिस भेजी है, जिसमें अन्य धाराओं के अलावा राजद्रोह की धारा 124 ए को भी शामिल किया गया है. यह नोटिस संजय सिंह के दिल्ली वाले आवास के नार्थ एवेन्यू के पते पर भेजी गई है.

हजरतगंज पुलिस थाने के जांच अधिकारी ए के सिंह की ओर से संजय सिंह को भेजी गई नोटिस में कहा गया है, ‘आपके विरुद्ध मुकदमा अपराध संख्या 242/2020 आईपीसीकी धारा 153 ए/153 बी/,505 :1::बी:/505:2:/468/469/124 ए/120 बी व 66 सी/66 डी आईटी अधिनियम के तहत पुलिस थाना हजरंतगंज लखनऊ के संबंध में जांच विवेचना की जा रही है, जो संज्ञेय एवं गैर जमानती अपराध है, जिसके संबंध में अपने पक्ष में तथ्यों/ अभिलेखीय साक्ष्य प्रस्तुत करने हेतु मेरे समक्ष 20 सितंबर को सुबह 11 बजे उपस्थित होना सुनिश्चित करें.

नोटिस में कहा गया है, ”यदि आप नियत तिथि/समय पर उपस्थित नही होते है तो आपके विरुद्ध दंडनीय कार्यवाही की जाएगी.’ पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि संजय सिंह के अलावा एक निजी कंपनी के तीन निदेशकों के खिलाफ भी राजद्रोह और धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है.

सिंह द्वारा जारी किए गये इस सर्वेक्षण में कहा गया था कि योगी आदित्यनाथ सरकार एक विशेष जाति के लिये कार्य कर रही है. इस सर्वेक्षण के बाद संजय सिंह के खिलाफ प्रदेश के विभिन्न जिलों में कम से कम 13 मामले दर्ज कराए गए थे.

Hamara Today : ब्रेकिंग  न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें.

Leave A Reply

Your email address will not be published.