Hamara Today
Hindi & Punjabi Newspaper

मनोज्ञान – ‘दुःख (Sadness), दबाव (Pressure), चिंता (Tension), तनाव (Stress), अवसाद (Depression)…..!’ केके

0

27 October 2020 Today’s Motivation | inspirational quotes in hindi , inspirational quotes | positive quotes | Today’s Motivation | success quotes | Manogayan KK | मनोज्ञान

Manogayan KK Hindi, inspirational quotes, 27 October 2020 positive quotes: आज हम आपको Today’s Motivation quotes ‘मनोज्ञान , success quotes बताने वाले हैं।

एक आदमी ने सारी ज़िन्दगी की कमाई लगाकर एक बेहद सुंदर घर बनवाया। उसमें सुख-सुविधा के सारे सामान जुटाए। कोई कमी नहीं छोड़ी। मित्र-दोस्त आए। उन्होंने उसके मकान की ख़ूब तारीफ़ की। उसे बहुत प्रसन्नता हुई। लगा कि उसने भी ज़िन्दगी में कुछ सार्थक काम किया है। लेकिन घर तैयार होने के कुछ ही दिनों बाद उसमे आग लग गई और पूरा मकान जलकर राख हो गया। दोस्त और सहकर्मी उसके पास सांत्वना देने के लिए पहुंचे। लेकिन उन्हें आश्चर्य हुआ कि वह आदमी जरा भी विचलित नहीं है, बल्कि ख़ुश है। सांत्वना देने आये लोगों ने पूछा कि क्या घर के जल जाने की उसे कोई चिंता नहीं है? आदमी ने जवाब दिया, “मैं ईश्वर का बहुत आभारी हूँ, क्योंकि अगले ही हफ्ते मैं उस मकान में शिफ्ट होने वाला था। मैं ख़ुश हूँ कि मेरा परिवार बच गया।” यही स्वस्थ दृष्टिकोण है। असल में वह आदमी जानता था कि घर तो दूसरा बन सकता है, लेकिन खोया हुआ परिवार नहीं मिल सकता।

दुःख (Sadness), दबाव (Pressure), चिंता (Tension), तनाव (Stress) और अवसाद (Depression) मन की वो अवस्थायें हैं जिनमें मन एक ऐसी अवस्था में पहुँच चुका होता है जहां मन को अपने चारों तरफ सिर्फ़ अंधकार ही दिखता है। जब अँधेरा मन को पूरी तरह से अपनी गिरफ़्त में ले लेता है तो मन अपने आपको पूरी तरह से अँधा हुआ मान भटकने लगता है। स्थिति यहां तक पहुँच जाती है कि मन यह स्वीकार कर बैठता है कि अब वो कभी भी रोशनी नहीं देख सकेगा। और जब मन इस तथ्य को ही अपने भाग्य का सत्य मान टूट जाता है तो उसे इस अँधेरे से बाहर निकलना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन लगने लगता है। लेकिन अंधकार के ऐसे चक्रव्यूह को तोड़ इस अवस्था में फंसे मन को फिर से रोशनी में ले जाने वाला ‘रचनात्मक दृष्टिकोण अथवा भाव केके’ (Creative Spirit KK) ही वो ‘मनोज्ञान’ अर्थात मन का ज्ञान है जो किसी भी मन में एक ऐसा रचनात्मक दृष्टिकोण अथवा भाव पैदा कर उसे किसी भी तरह के अँधेरे से बाहर निकाल रोशन कर सकता है!
केके
WhatsApp @ 9667575858

Leave A Reply

Your email address will not be published.