Hamara Today
Hindi & Punjabi Newspaper

इंसान को खंगाल दे रहा वर्ष 2020-21

0

Hamara Today : मानव इतिहास में सन् 2020-21 भुलाए नहीं भूलेगा। मानव सभ्यता के सफर में, इतिहास का यों अभी विकास शिखर है। बावजूद इसके वर्ष 2020 के लम्हों की भावनाओं, संकटों, अनुभवों और देव-असुर प्रकृति के चेहरों के समुद्र मंथन में इंसान भयावह खदबदाया हुआ है। चौतरफा लावा है, चिंता है और बहस है। विकास का शिखर है फिर भी बेबसी है, लाचारी है और समझ नहीं आ रहा है कि जीयें तो कैसे जीयें? मौत भी इंसान जैसी नहीं! सवाल ही सवाल। पृथ्वी का सवाल है तो इंसान के जीवन जीने का मसला है। पृथ्वी को बचाना है या नहीं? यहीं नहीं इंसान की अलग-अलग नस्लों, कौम, रंग, सभ्यता-संस्कृति के भी सवाल है। हां, सन् 2020-21 में तय होगा कि इंसान अपनी चिंता कैसे करे? उसे मौत कैसी चाहिए? आगे उसे कैसे जीना है? वह चिड़ियाघर के जानवर की तरह रहेगा, कैमरों-एप और तंत्र की निगरानी में रहेगा या आजादी, निज स्वंतत्रता, सामाजिकता-पारिवारिकता, समानता व गरिमा में जीने की फितरत पाले रहेगा? बेध़डक-मस्तमौला रहेगा या चिड़ियाघर के पिंजरों में सुरक्षित रहना चाहेगा?

इसके अलावा मानव जीवन के अलग-अलग रूपों के सवाल है। सन् 2020-21 में यह तय होने की भी चुनौती आ गई है कि इंसानी जीव में किसका क्या मतलब है? गोरों का कैसा तो कालों का कैसा? फिर गोरे बनाम काले बनाम चीनी मंगोलाइड बनाम इस्लाम बनाम हिंदुओं की तासीर में किस जीव, किस कौम, किस नस्ल की अहमियत सभ्यताओं के संघर्ष में निर्णायक होगी? कौन देवता होंगे और कौन राक्षस?

सोचें, अंतरिक्ष के किसी स्पेस स्टेशन में बैठा कोई दार्शनिक या भगवान पृथ्वी और उसके इंसान को ले कर यदि ध्यान व मनन कर रहा होगा तो यह सोचते हुए क्या हैरान नहीं होगा कि ज्ञान-विज्ञान से विकास कर पृथ्वी को भूमंडलीकृत गांव में बदलने वाला मानव आज किस मुकाम पर है? असंख्य क्रांतियों, विचारों, प्रयोगों, अनुभवों में पक-पक कर इंसान ने अंतरिक्ष को जीतने तक की उपलब्धि बनाई बावजूद इसके सन् 2020 का यह कैसा लम्हा जो इंसान उस वायरस के आगे लाचार है जो चमगाड़द जनित है!

मसला वायरस का अकेला नहीं है। साइबेरिया, आर्कटिक में 35-38, डिग्री गर्मी याकि पृथ्वी के गर्म होने का है तो इंसान, होमो सेपियंस के अचानक चिड़ियाघर वाली सोशल डिस्टेंसिंग याकि जीने के तरीकों में दस तरह के उन परिवर्तनों का भी है, जिससे आदि मानव के गुफाओं का वक्त याद हो आता है। जन्म और मौत दोनों आज उस आदिम वक्त के साये में हैं, जब इंसान जानवर की मौत मरता था तो जन्म गुफा के निर्विकार जीवन की महज घटना होती थी!

अपना मानना है सहस्त्राब्दियों पहले चिंपाजी याकि आदि मानव ने बुद्धि चेतना जब प्राप्त की, अफ्रीका की गुफाओं की बसावट से बाहर निकल उसने भय, खौफ पर विजय के साथ पृथ्वी पर फैलना शुरू किया तो वह मानव की व्यक्तिगत आजादी, खुराफात, इच्छा, कौतुक और सत्य की खोज में शुरू उसका फितरती सफर था। उसी से इंसान की बुद्धि, ज्ञान, सत्य के पट खुले। वह अपनी रचना अपने हाथों गढ़ता गया। जाहिर है बुद्धि की इंसानी फितरत, आजादी ने परिवार, समाज, धर्मं, सभ्यता, संस्कृति, नस्ल, कौम, देश का विस्तार बनाया। वह दूसरे जीवों से अलग मानव बना। तभी मानव सभ्यता से पृथ्वी वह हुई जो आज है!

सो, मानव विकास व सहस्त्राब्दियों के मानव सफर के निचोड़ में वजह और सार की बात है बुद्धि के बूते सत्यशोधन! प्रकृति पर, अंधकार से सतत संघर्ष के साथ विजय इस धुन में कि तू डाल-डाल तो मैं पात-पात!  प्रकृति में इंसान की पैदाइश बतौर जीव है। मगर उसने बाकी जीवों को पछाड़ा। प्रकृति और अन्य जीवों को कंट्रोल करने वाला वह विशिष्ट जीव बना, मानव हुआ तो इसके पीछे भले विकासवाद के सिद्धांत की थीसिस सोचें या इंसानी बुद्धि चेतना के क्रमिक विस्फोटों-अनुभवों का कोई दार्शनिक तर्क मानें मैं कोर वजह दिमागी स्वतंत्रता की फितरत को मानता हूं।

वह कैसे बनी? अफ्रीकी गुफाओं के आदि मानव से लेकर सन् 2020-21 के मौजूदा वक्त की यह प्रवृत्ति निर्विवाद है कि इंसान चौतरफा फैला और जिधर गया वहां की चुनौतियों के आगे अपनी बुद्धि के प्रयोग से उसने सर्वत्र सौ फूल खिलाए। फिर अपनी-अपनी बगिया में अपना विचार बनाया। जीने का अपना अंदाज बनाया।

इस अंदाज पर वज्रपात किसका था? जाहिर है प्रकृति का था। पूरा मानव इतिहास महामारी की आपदाओं से भरा पड़ा है। प्रकृति की आपदाओं ने इंसान की बुद्धि, चेतना को कुंद किया, उसे अंधविश्वासी, झूठ में जीने वाला बनाया तो सत्यशोधन को भी प्रेरित या मजबूर किया। अपना मानना है कि वेद से आज तक मानव सभ्यता का पूरा बुद्धि बल एक ही बात में खपा है कि सत्य क्या है? प्रकृति की पूजा, प्रकृति से संघर्ष, प्रकृति पर विजय और प्रकृति के आगे लाचारगी में इंसान का व्यवहार एक सा रहा है। वह लाचार, पस्त होता है तो अंधविश्वासी बन झूठ में जीता है लेकिन स्वतंत्र बुद्धि चेतना क्योंकि कहीं न कहीं पृथ्वी पर होती है तो दार्शनिक, तपस्वी, हठयोगी, वैज्ञानिक अपनी साधना-तपस्या, हठयोग आदि के भावों में सत्य खोज कर व पुनर्जागरण से प्रकृति को वापस साध लेते हैं और माना जाता है अजेय हुए!

सन् 2020-21 का लम्हा इंसान की लाचारी का है। वह वायरस के आगे पस्त है। निश्चित ही इंसान टीका, इलाज खोज लेगा लेकिन इससे और इसके बहाने के कई परिणामों, द्वंदों, संकटों पर वर्ष 2020-21 में जो  समुद्र मंथन है वह क्योंकि झूठ बनाम सत्य, देव बनाम असुर की प्रवृत्तियों में है तो अंत नतीजे में जो प्रवृत्ति जीतेगी और अमृत कलश जिसे प्राप्त होगा उसी से तब भविष्य के लिए तय होगा कि इंसान को आगे कैसे जीना है? पृथ्वी का भविष्य क्या है?

हां, लम्हों की खता का मामला नहीं है, बल्कि पूरी मानव सभ्यता दोराहे पर है। एक रास्ता चिड़ियाघर का है तो दूसरा इंसान की आजाद जिंदगी का! एक रास्ता चीन का है तो दूसरा स्वीडन, ब्रिटेन, न्यूजीलैंड, जर्मनी, फ्रांस, यूरोपीय संघ का। एक तरफ शी जिनफिंग, पुतिन, डोनाल्ड ट्रंप,  बोलसोनारो और नरेंद्र मोदी नाम के पंच परमेश्वर हैं, जो प्रजा को हांकते हुए वायरस के आगे ताली-थाली का विकल्प लिए हुए  है तो दूसरी और स्वीडन, ब्रिटेन, जर्मनी, फ्रांस, यूरोपीय संघ की सांस्थायिक प्रकृति वाली वह लीडरशीप है, जो वैज्ञानिकता, सत्य, समझदारी और बुद्धि से वायरस की चुनौती का सामना कर रही है।

दांव पर क्या है? मानव सभ्यता का भविष्य। कौम, समाज, धर्म का भविष्य। हां, वायरस करोड़ों लोगों की जिंदगियां तबाह करेगा। पृथ्वी के अरबों लोगों के घरों को गरीब बनाएगा (भारत में न जाने कितने प्रतिशत लोग वापिस गरीब होंगे!)। वैश्विक आर्थिकी बरबाद होगी। विश्व व्यवस्था, वैश्विक व्यवस्था का शक्ति संतुलन बदलेगा। ध्यान करें कोई सौ साल से दुनिया की धुरी अमेरिका है। उस नाते समझें, नोट करके रखें कि अमेरिका अपने इतिहास की तीन उथल-पुथल याकि गृहयुद्ध, महामंदी-ग्रेट डिप्रेशन और विश्व युद्ध से भी अधिक विकट स्थिति में आज है। कोविड-19 की महामारी में उसकी आर्थिकी चौपट है तो सामाजिक तानाबाना बिखरा है वहीं लीडरशीप ऐसी अंहकारी है कि लोकतंत्र और नागरिक दोनों का भगवान मालिक है। तब दुनिया के नेतृत्व में आज कौन है? कोई नहीं!

Leave A Reply

Your email address will not be published.