Hamara Today
Hindi & Punjabi Newspaper

पीएम के किसान संवाद कार्यक्रम का किसानों ने थाली बजाकर विरोध प्रकट किया

0

शुक्रवार को दिनभर किसान संगठनों की बैठक हुई और प्रस्ताव को लेकर चर्चा की गयी। लेकिन देर शाम तक इस मुद्दे पर कोई निर्णय नहीं लिया गया। इस बीच पीएम के किसान संवाद कार्यक्रम का किसानों ने थाली बजाकर विरोध प्रकट किया। इसके साथ ही किसान 27 िदसंबर को दोबारा पीएम के ‘मन की बात’ का थाली बजाकर विरोध करेंगे। वहीं, किसानों ने शुक्रवार को भी अनशन रखा और 11 लोग अनशन पर रहे।

गौरतलब है कि शनिवार को सोनीपत में धरनारत किसानों को एक महीना पूरा हो रहा है। कृषि कानूनों को रद्द कराने के लिए तीन दौर की वार्ता के बाद भी कोई हल नहीं निकला है। इस बीच शुक्रवार को किसान संगठनों ने सरकार की ओर से भेजे गए नये वार्ता प्रस्ताव पर मंथन किया। किसान संगठनों का कहना है कि अब शनिवार को दोबारा बैठक करके अंतिम फैसला लिया जाएगा। इसके बाद केंद्र को फैसले से अवगत करा दिया जाएगा। हालांकि संगठनों ने यह नहीं बताया कि फैसला पॉजिटिव रहेगा या नेगेटिव। परंतु यह तय है कि शनिवार को किसान इस मुद्दे पर अपनी रणनीति साफ कर देंगे।

इस बीच किसान सम्मान निधि की दूसरी किस्त जारी किए जाने के दौरान पीएम संवाद कार्यक्रम का किसानों ने जमकर विरोध किया और थाली बजाई। किसान नेता शमशेर सिंह दहिया ने कहा कि कृषि कानूनों को लेकर सरकार देश के किसान को गुमराह कर रही है। इसलिए आज विरोध स्वरूप थाली बजाई गई हैं।

संगठनों ने टोल फ्री किया हरियाणा

केंद्र सरकार के रवैये को देखते हुए संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से हरियाणा में 3 दिन तक सभी टोल प्लाजा को फ्री करने का ऐलान किया गया। इसके मुताबिक शुक्रवार को प्रदेश के सभी टोल प्लाजा पर किसान एकत्रित होना शुरू हुए और टोल प्लाजा को मुक्त करवाया। शुक्रवार को हरियाणा में दूसरी बार टोल प्लाजा को पर्ची मुक्त किया गया है। संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से ऐलान के तहत प्रदेश के सभी एनएचआई और स्टेट हाईवे के टोल पर किसानों ने कब्जा जमा दिया और वाहनों की आवाजाही फ्री कर दी। इसके साथ ही किसानों ने बृहस्पतिवार देर रात्रि ही एनएच-44 पर स्थित मुरथल टोल को फ्री करवा दिया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More