Hamara Today
Hindi & Punjabi Newspaper

अकाली नेता प्रीत सिंह व उसकी धर्मपत्नी राजिंद्र कौर के खिलाफ मामला दर्ज

0

अबोहर (शर्मा): बिजली बोर्ड द्वारा बिजली चोरी की रोकथाम के लिए कई उपराले किये गए थे। लोगों के घरों में लगे मीटरों को बाहर निकाल कर बॉक्सों में लगाये गये हैं। फैक्ट्रियों व दुकानदारों के मीटर बाहर बॉक्सों में लगाए गए हैं ताकि बिजली चोरी पर अंकुश लगाया जा सके। अकाली-भाजपा सरकार के समय से ही बिजली बोर्ड द्वारा यह काम शुरू कर दिया गया था।

अब कैप्टन सरकार ने भी बिजली चोरी रोकने के लिए अभियान तेज कर दिया गया था। बिजली बोर्ड को काफी हद तक इस मामले में सफलता हासिल हुई है। अबोहर शहर में नानक नगरी गली नं.8 में अकाली नेता प्रीत सिंह पुत्र नरेन्द्र सिंह व उनकी धर्मपत्नी राजिंद्र कौर पत्नी प्रीत सिंह के घर के बाहर बिजली बोर्ड का खम्बा लगा हुआ है।

इस खम्बे से बिजली की तारें गुजरती हैं। सभी के मीटर बाहर लग हुए हैं। अकाली नेता प्रीत सिंह ने खम्बे से कुंडी लगाई हुई थी। बिजली बोर्ड के कर्मचारी सलिन्द्र कुमार पुत्र धर्मचंद वासी आलमगढ़ बिजली ठीक करने के लिए उस गली से गुजरा तो देखा कि प्रीत सिंह के घर पर कुंडी लगी हुई है। उसने अपने विभाग के कर्मचारियों को बुलाया।

Related Posts
style="display:inline-block;width:650px;height:100px" data-ad-client="ca-pub-3413084182519690" data-ad-slot="8061398908">

इतने में प्रीत सिंह व उसकी धर्मपत्नी राजिंद्र कौर बिजली कर्मचारियों के साथ झगडऩे लगे और गाली-गलौच व हाथापाई तक की नौबत आ गई। बिजली कर्मचारियों ने नगर थाना 1 को सूचना दी कि एक तो बिजली चोरी करते हैं दूसरा बिजली कर्मचारियों के साथ दुव्र्यवहार कर रहे हैं।

एएसआई हरविंद्र सिंह ने मौके पर पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया और सुरेंद्र कुमार के बयानों के आधार पर मुकदमा नं. 144, 20.06.20, भांदस की धारा 379, 353, 186, 332, 34 आईपीसी के तहत अकाली नेता डॉक्टर प्रीत सिंह पुत्र नरेन्द्र सिंह व उसकी धर्मपत्नी राजिंद्र कौर निवासी गली नं. 8 के खिलाफ मामला दर्ज किया।

जानकारी देती पुलिस पार्टी, पकड़ा गया आरोपी प्रीत सिंह व कुंडी लगाई।

इस मामले में प्रीत सिंह को काबू करने में सफलता हासिल की कि जबकि उसकी धर्मपत्नी मकान को ताला लगाकर फरार हो गई।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More